शासकीय भूमि पर मिला थाईलैंड की इंसान को खाने वाली मछली का उत्पादन

जिला प्रशासन ने 4 करोड़ रुपए कीमत की 10 बीघा जमीन मुक्त कराई। सुरक्षा की दृष्टि से तालाब और मछलियों को किया नष्ट।

ग्वालियर। एक भू-माफिया ने न सिर्फ शासकीय भूमि पर अवैध कब्जा कर लिया, बल्कि उस पर तालाब बनाकर थाईलैंड की उस प्रजाति की मछली का उत्पादन भी करता मिला जो इंसान तक को खा जाए। मछली उत्पादन से लाखों रुपए की कमाई कर चुके भू-माफिया से जिला प्रशासन ने चार करोड़ रुपए कीमत करीब 10 बीघा शासकीय भूमि मुक्त करवा ली है। वहीं, बच्चों की सुरक्षा को देखते हुए जेसीबी मंगाकर तालाब और मछलियों को नष्ट कर दिया गया। जिला प्रशासन भू-माफिया पर अवैध रूप से कारोबार करने पर एफआईआर दर्ज करवाएगा। वहीं, निजी भूमि ईंट के भट्टे चलाने वालों पर भी जिला प्रशासन ने कार्रवाई की है।

जबर सिंह लोधी ने अपने परिवार के साथ मिलकर गिरवाई क्षेत्र में नजूल की सर्वे क्रमांक 325, 326, 330, 331 की शासकीय भूमि पर अवैध कब्जा कर तालाब का निर्माण कर लिया था। जबर द्वारा तालाब में अवैध रूप से मछली पालन किया जा रहा था।

एसडीएम अनिल बवारिया शिकायत मिलने पर एंटी माफिया अभियान के तहत टीम लेकर कार्रवाई करने पहुंचे तो तालाब में मछली पालन देखकर फिशरीज विभाग के संयुक्त संचालक को मौके पर बुलवाया। उन्होंने मछलियों को देखकर बताया कि यह तालाब में थाईलैंड की मछली पालन किया जा रहा है, जो कि मध्य प्रदेश में प्रतिबंधित है। यह मछलियां इतनी खतरनाक है कि इंसान तक को खा जाएं।

एसडीएम अनिल ने बताया कि शासकीय भूमि की शिकायत पर कार्रवाई करने आए थे। पर यहां शासकीय भूमि पर तालाब बनाकर मछली पालन होते पाया गया। उक्त मछलियां प्रतिबंधित हैं। कोई बच्चा इनके बीच गिर जाए तो उसकी जान को खतरा हो सकता है, इसलिए तालाब और मछली पालन को नष्ट करवा दिया गया है। वहीं अवैध कारोबार करने वाले पर एफआईआर भी करवा रहे हैं।

ईंट भट्टा संचालक को 19 लाख का नोटिस

एसडीएम अनिल बनवारिया को मछली तालाब के पास निजी भूमि पर ईंट के भट्टे संचालित मिले। पूछताछ में कोई भी अनुमति और भूमि का डायवर्सन नहीं दिखा पाया, जिसके बाद भट्टा संचालकों को 19.50 लाख रुपए वसूली का नोटिस जारी किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *