दहेज में फ्रिज न देने पर पत्नी की हत्या करने वाले पति को दस साल की कैद

सास को भी सुनाई दस साल की सजा। दोनों पर पांच-पांच हजार रूपए का जुर्माना भी किया है। ससुर और देवर को संदेह का लाभ पाकर दोष मुक्‍त।

राजेंद्र तलेगांवकर। दहेज में फ्रिज न देने पर पत्‍नी के साथ क्रूरता करने वाले पति और सास को अदालत ने दस-दस साल के सश्रम कारावास की सजा सुनाई है। पति व सास की क्रूरता के चलते आरोपी पति सुनील कुशवाह की पत्‍नी पूजा ने कैरोसिन डालकर आग लगाकर आत्‍महत्‍या कर ली थी।

अपर सत्र न्‍यायाधीश एके मंसूरी ने आरोपी सुनील कुशवाह उम्र 24 साल एवं सास गीता कुशवाह उम्र 45 साल निवासी ग्राम तिघरा को भादसं की धारा 304 बी के अपराध में उक्‍त सजा सुनाई है। दोनों पर पांच-पांच हजार रूपए का जुर्माना भी किया है। दोनों को दहेज प्रतिषेध अधिनियम के अपराध में दोषी पाते हुए एक-एक साल के सश्रम कारावास की भी सजा सुनाई गई है।

यह है मामला

अपर लोक अभियोजक घनश्‍याम मंगल ने प्रकरण की जानकारी देते हुए बताया कि कालीचरण कुशवाह ने पुलिस थाना तिघरा में सूचना दी कि 21 अक्‍टूबर 2017 को रात करीब 12 बजे उनकी बेटी पूजा पत्‍नी सुनील कुशवाह उम्र 19 साल की जेएएच में उपचार के दौरान मौत हो गई। पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू की तो पता चला कि आरोपी पति सुनील कुशवाह, देवर, ससुर एवं सास गीता कुशवाह मृतका गीता को दहेज में फ्रिज न लाने तथा अन्‍य मांगों को लेकर प्रताड़ित करते थे। उसके साथ आए दिन मारपीट की जाती थी। इसके चलते संदिग्‍ध परिस्थितियों में पूजा की आग से जलकर मौत हो गई। पुलिस ने जांच के बाद आरोपी पति, सास व ससुर को गिरफ्तार कर लिया। मामले में न्‍यायालय ने ससुर और देवर को संदेह का मिलने के चलते दोष मुक्‍त कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!