जीआर मेडिकल कॉलेज के पीजी छात्र का फाइनल परिणाम घोषित करने के आदेश

ग्वालियर हाईकोर्ट ने कहा छात्र का परीक्षा परिणाम सीबीआई कोर्ट में चल रहे प्रकरण के आदेश के अधीन होगा

द ग्वालियर। उच्च न्यायालय खंडपीठ ग्वालियर (Madhya Pradesh High Court Bench Gwalior) ने जीआर मेडिकल कॉलेज (Gajra Raja Medical College) में नेत्र रोग विभाग (Ophthalmology Department) के पीजी छात्र कीर्ति आजाद द्विवेदी के आवेदन का निराकरण करते हुए उसका अंतिम वर्ष का परीक्षा परिणाम घोषित किए जाने के आदेश दिए हैं। न्यायालय ने इसके साथ ही यह भी कहा कि यह परीक्षा परिणाम छात्र के खिलाफ सीबीआई कोर्ट (CBI Court) में चल रहे प्रकरण के अंतिम आदेश के अधीन होगा।

न्यायमूर्ति शील नागू (Justice Sheel Nagu) एवं न्यायमूर्ति राजीव कुमार श्रीवास्तव (Justice Rajiv Kumar Shrivastava) की युगलपीठ ने प्रकरण के तथ्य पर विचार के बाद उक्त आदेश दिए हैं। याचिकाकर्ता कीर्ति आजाद ने कहा कि उसने वर्ष 2015 में आयोजित नीट की परीक्षा के आधार पर जीआर मेडिकल कॉलेज के नेत्र विभाग में मास्टर ऑफ सर्जरी के पाठ्यक्रम में प्रवेश लिया था। याचिकाकर्ता ने यह भी कहा कि कोर्स पूर्ण होने के बाद उसके अंतिम वर्ष का परीक्षा परिणाम घोषित नहीं किया गया है, इसलिए इस परीक्षा परिणाम को घोषित किया जाए।

याचिकाकर्ता ने किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज (King George Medical College) से एमबीबीएस (MBBS) किया है। नीट परीक्षा (Neet Exam)  में उत्तीर्ण होने के बाद उसे जीआर मेडिकल कॉलेज में प्रवेश दिया गया, लेकिन अंतिम वर्ष की परीक्षा में बैठने से रोक दिया गया था। बाद में अनुमति मिलने पर अंतिम वर्ष की परीक्षा दी थी। कीर्ति आजाद को सीबीआई ने 26 फरवरी  2019 को गिरफ्तार किया था। सीबीआई ने उसे एमपी व्यापम कांड (MP Vyapam) में सोल्वर की भूमिका निभाने के आरोपों के आधार पर गिरफ्तार किया था। गिरफ्तारी के कारण जेल में रहने की वजह से कॉलेज में अनुपस्थिति के संबंध में वह कॉलेज को सूचित नहीं कर सका। इस कारण उसे परीक्षा से वंचित किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!