विधायक सतीश सिकरवार के पॉलिटिकल धरने पर मुन्नालाल का ब्रेक, सर्किट हाउस में दिखाई पावर

ग्‍वालियर पूर्व विधानसभा में विकास कार्य न होने पर मंगलवार को कांग्रेसी विधायक ने निगमायुक्त को दिया था ज्ञापन, बुधवार को पूर्व विधायक ने निगमायुक्त को सर्किट हाउस बुलाया।

द ग्वालियर। बेशक उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्‍याशी डॉ. सतीश सिंह सिकरवार से भाजपा प्रत्‍याशी मुन्‍नालाल गोयल शिकस्त खा चुके हैं, लेकिन मुन्‍नालाल गोयल हारकर भी सरकार की पावर से सतीश सिकरवार के पॉलिटिकल रेस पर ब्रेक लगा रहे हैं। ताजा मामला सतीश सिकरवार द्वारा निगामयुक्‍त को दिया गया वो अल्‍टीमेटम था, जिसमें सतीश सिकरवार ने बाल भवन पहुंचकर विधानसभा में दस दिन में विकास कार्य शुरू न करने पर निगम मुख्‍यालय पर धरना देने की बात कही थी। दिलचस्‍प बात यह है कि इस अल्‍टीमेटम के 24 घंटे के भीतर मुन्‍नालाल गोयल ने अपनी पावर दिखाई और निगमायुक्‍त को सर्किट हाउस बुलाकर ग्‍वालियर पूर्व विधानसभा में विकास कार्य करवाने के निर्देश दिए। इस एपिसोड के बाद माना जा रहा है कि विधायक सतीश सिकरवार के पॉलिटिकल धरने पर ब्रेक लग गया है।     

मंगलवार को ग्वालियर पूर्व विधानसभा क्षेत्र में विकास कार्यों को लेकर कांग्रेसी विधायक डॉ. सतीश सिंह सिकरवार ने बाल भवन पहुंचकर निगमायुक्‍त का 10 दिन का अल्‍टीमेटम दिया था। 10 दिन में विकास कार्य प्रारंभ न होने पर निगम मुख्‍यालय पर धरने की चेतावनी दी थी। सतीश सिकरवार विधानसभा क्षेत्र में विकास कार्य कराने का श्रेय ले पाते उससे पहले ही बुधवार को पूर्व विधायक एवं भाजपा नेता मुन्‍नालाल गोयल ने निगमायुक्‍त शिवम वर्मा को मुरार वीआईपी सर्किट हाउस बुलाकर विकास कार्यों की सूची सौंपते हुए जल्‍द कार्य शुरू कराने को कहा। इस दौरान भाजपा के दो पूर्व पार्षद भी मौजूद थे।  

गर्मियों से पहले मिले टंकियों से पानी

पूर्व विधायक मुन्‍नालाल गोयल ने निगमायुक्त से कहा कि पूर्व विधानसभा क्षेत्र में आगामी गर्मी के सीजन में व्याप्त पेयजल संकट को देखते हुए अमृत योजना से 18 पानी की टंकियों का निर्माण कार्य शुरू हुआ, लेकिन अभी तक कई टंकियों का काम अधूरा है। महाराजपुरा, शताब्दीपुरम, गड्डे वाला मोहल्ला, दर्पण कॉलोनी, तुलसी बिहार, डाइट संस्थान महलगांव तथा हुरावली की टंकियों का लोकार्पण भी कर दिया, परंतु 3 माह बीतने के बाद भी उनसे सप्लाई शुरू नहीं हो सकी है।  

मुन्‍नालाल ने निगमायुक्त के समक्ष रखे यह भी मुद्दे   

  • निगम के सामुदायिक भवनों को भू-माफियों से मुक्त कराया जाए, क्योंकि गरीब एवं मध्यम वर्ग के शादी विवाह एवं अन्य सामाजिक कार्यक्रमों हेतु सामुदायिक भवनों का निर्माण किया गया था। किन्तु भू-माफियाओं द्वारा इन सामुदायिक भवनों पर अवैध कब्जा करके हर वर्ष 50 लाख रूपए की अवैध वसूली करके नगर निगम को मिलने वाले राजस्व को क्षति पहुंचाई जा रही है।
  • शहर में बरसात के पानी के निकास के लिए ड्रेनेज व्यवस्था गड़बड़ा जाती है। बरसात में शहर की प्रमुख सड़कें जलमग्न हो जाती है। मुख्यमार्गो में पानी भर जाने से यातायात अवरुद्ध हो जाता है। इसका मुख्य कारण ड्रेनेज व्यवस्था ठीक न होना है, इसलिए अभी से इस पर ध्यान दिया जाए।
  • हुरावली से हरिखेडा होते हुए नेशनल हाईवे मार्ग तक सड़क चौड़ीकरण कर डिवाइडर लगाया जाएं।
  • मेहरा कॉलोनी से सचिन तेंदुलकर मार्ग तक सड़क चौड़ीकरण के साथ डिवाइडर लगाए जाएं और यातायात में बाधक पावर हाउस को शिफ्ट किया जाए। 
  • जनमित्र केंद्रों पर गरीब जनता के मजदूरी कार्ड, कामकाजी महिला कार्ड, विधवा, वृद्धावस्था पेंशन कार्ड, जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र एवं अन्य जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ समय पर हितग्राहियों को दिलाया जाए।   
  • विभिन्न वार्डों में बंद स्ट्रीट लाइटों को चालू किया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *