खरीदी केंद्र पर अनियमितता में कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी निलंबित, जीडीए सीईओ समेत तीन को नोटिस

शासन की योजनाओं के क्रियान्वयन में लापरवाही पाए जाने पर तीन वरिष्ठ अधिकारियों को नोटिस जारी। अंतरविभागीय समन्वय समिति की बैठक में ग्‍वालियर कलेक्टर ने की कार्रवाई।

द ग्वालियर। समर्थन मूल्य पर ज्वार, बाजरा खरीदी केंद्र पर अनियमितताएं पाए जाने पर कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह (Gwalior Collector Kaushlendra Vikram Singh) ने कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी मुरार पंकज करोसिया को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। इसके साथ ही शासन की योजनाओं (MP Government Schemes) के क्रियान्वयन में लापरवाही बरतने एवं सीएम हेल्पलाइन (CM Helpline) के प्रकरणों के निराकरण को समय-सीमा में न निपटाने पर जीडीए सीईओ (Gwalior Development Authority) समेत तीन वरिष्ठ अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी किया हैं।

मंगलवार को कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने अंतरविभागीय समन्वय समिति की बैठक रखी, जिसमें उन्‍होंने स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि शासन की योजनाओं के क्रियान्वयन में लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों को बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने सीएम हेल्पलाइन के प्रकरणों में लापरवाही पाए जाने पर क्षेत्रीय अधिकारी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड एमपी सिंह, मुख्य कार्यपालन अधिकारी ग्वालियर विकास प्राधिकरण केके सिंह गौर एवं कार्यपालन यंत्री पीआईयू सेल को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए हैं।

इस दौरान कलेक्टर ने खाद्य विभाग की समीक्षा के दौरान नवीन खाद्यान्न पर्ची के वितरण की प्रगति पर असंतोष व्यक्त किया। नगर निगम ग्वालियर में लगभग 7 हजार नवीन राशन पर्चियों का वितरण शेष है। उन्होंने अपर आयुक्त नगर निगम को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए कि 48 घंटे में सभी नवीन राशन पर्चियों का वितरण करने के साथ-साथ हितग्राहियों को राशन भी उपलब्ध हो जाए। समय-सीमा में कार्रवाई पूर्ण न होने पर संबंधित अधिकारियों के विरूद्ध दण्डात्मक कार्रवाई की जाएगी। 

कलेक्टर ने यह भी निर्देशित किया कि माह नवंबर का राशन भी हितग्राहियों को तत्परता से उपलब्ध कराया जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि 15 दिसंबर से पूर्व सभी हितग्राहियों को राशन का वितरण हो जाए। वहीं, सीएम हेल्पलाइन के प्रकरणों की समीक्षा के दौरान विभागीय अधिकारियों को निर्देशित किया गया कि 100 दिन से अधिक लंबित सभी शिकायतों का निराकरण अभियान चलाकर सुनिश्चित किया जाए। आगामी बैठक में सभी विभागों की समीक्षा के दौरान 100 दिन से अधिक लंबित कोई भी आवेदन निराकरण के बिना नहीं पाया जाना चाहिए, जिन अधिकारियों द्वारा 100 दिन से अधिक लंबित प्रकरणों के निराकरण में कोताही बरती जाएगी। उनके विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।   

कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बैठक में यह भी निर्देशित किया कि समर्थन मूल्य पर की जा रही खरीदी के दौरान सभी व्यवस्थायें चाक-चौबंद रहें। जिन अधिकारियों को दायित्व सौंपे गए हैं वे खरीदी केंद्रों का भ्रमण अवश्‍य करें और खरीदी केंद्र पर सभी व्यवस्थाओं को पूर्ण कराएं।   

रोको-टोको अभियान का हो प्रभावी क्रियान्वयन

कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने यह भी निर्देशित किया है कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिये संभागीय आयुक्त श्री आशीष सक्सेना की पहल पर चलाए जा रहे रोको-टोको अभियान का प्रभावी क्रियान्वयन भी जिले में हो। शहरी क्षेत्र के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्र में भी अभियान के तहत कार्रवाई सुनिश्चित की जाए। राजस्व अधिकारियों के साथ-साथ अन्य विभागीय अधिकारी भी अपने-अपने कार्यक्षेत्र में रोको-टोको अभियान के तहत कार्रवाई करें। अगर कोई व्यक्ति बिना मास्क के मिलता है तो उसे रोकें-टोकें और आवश्यकता हो तो रूपसिंह स्टेडियम में बनाई गई खुली जेल में भेजें। इसके नोडल अधिकारी श्री राजीव सिंह को भी सूचित करें।

माफियाओं के खिलाफ करें सख्त कार्रवाई

कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने कहा कि प्रदेश सरकार की मंशा के अनुसार जिले में माफियाओं के विरूद्ध कार्रवाई का अभियान चलाया जा रहा है। इनमें खाद्य पदार्थों में मिलावट करने वाले, भू-माफियाओं के साथ-साथ अन्य प्रकार के माफियाओं के विरूद्ध भी कार्रवाई की जा रही है। सभी अनुविभागीय राजस्व अपने-अपने क्षेत्र में अभियान चलाकर कार्रवाई करें। माफियाओं के विरूद्ध प्रकरण कायम करने के साथ-साथ जेल भेजने की कार्रवाई भी की जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!