पूरे शहर में कचरा देख मैदान में उतरे कलेक्टर, कटघरे में नगर निगम की व्‍यवस्था

पहले भी स्वच्छता सर्वेक्षण से पहले जिला प्रशासन ने संभाला था मोर्चा। अब फिर से एसडीएम सहित जिला प्रशासन के अन्य अधिकारियों को जिम्मेदारी सौंपने की तैयारी।    

द ग्वालियर। शहर की बदहाल सफाई व्यवस्था को लेकर जनमानस के आक्रोश को देखते हुए ग्‍वालियर कलेक्टर ने मोर्चा संभाल लिया है। कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह गुरुवार की सुबह मैदान में उतर आए। अब फिर से एसडीएम सहित जिला प्रशासन के अन्य अधिकारियों को वे जिम्मेदारी सौंपने जा रहे हैं। पिछले साल भी ऐसे ही हालातों में कलेक्टर को नगर निगम की सफाई व्यवस्था बेहतर करने मोर्चा संभालना पड़ा था।

कलेक्टर ने गुरुवार की सुबह शहर की सफाई व्यवस्था का निरीक्षण किया तथा संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि सफाई व्यवस्था में कोई भी कोताही न बरतें एवं अभियान चलाकर सभी वार्डों में बेहतर सफाई व्यवस्था करें। इससे आमजनों को परेशानी न हो और संक्रामक बीमारियों की रोकथाम की जा सके। उन्होंने निगम प्रशासन को निर्देश दिए कि डोर टू डोर कचरा कलेक्शन में लगे जो वाहन खराब हैं उन्हें तत्काल ठीक कराया जाए। कलेक्टर ने जनता से भी आग्रह किया कि वे शहर सफाई व्यवस्था में सहयोग करें। कलेक्टर ने बेहतर सफाई व्यवस्था के लिए जिला स्तर के अधिकारियों की टीमें बनाई गई है जो कि सभी वार्डों में सफाई व्यवस्था की मॉनिटरिंग करेंगी।

मेहनत व मैनेजमेंट से पाया था 13वां स्थान

निगमायुक्त संदीप माकिन की मेहनत व मैनेजमेंट की दम पर ग्वालियर शहर ने स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 में थ्री स्टार रैंकिंग तो पा ली थी, लेकिन नगर निगम प्रशासन यह तमगा ज्यादा समय तक सुरक्षित नहीं रख सका। स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 में शहर को कचरामुक्त शहर भी घोषित किया गया था, किंतु तीन-चार माह बाद ही सफाई व्यवस्था दम तोड़ चुकी थी। निगमायुक्त संदीप माकिन के कुछ प्रयास मैदान में रहे थे तो कुछ दिल्ली दरबार में जाकर उनकी मेहनत रही थी। इससे ग्वालियर शहर स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 में देश के 4237 शहरों की सूची में 13वां स्थान पा सका था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!