ग्वालियर मेला शुरू होने की घोषणा से गाडियों की बिक्री पर अचानक लगा ब्रेक, क्‍या इस बार भी मिलेगी वाहनों की खरीद पर आरटीओ टैक्‍स में 50 प्रतिशत की छूट?

लोगों को उम्‍मीद मिलेगी आरटीओ टैक्‍स में 50 प्रतिशत की छूट। राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया से 26 दिसंबर को ग्वालियर में मिलेंगे व्‍यापारियों के संगठन।

 द ग्वालियर। माधवराव सिंधिया ग्‍वालियर व्यापार मेला ग्वालियर के 15 जनवरी से शुरू किए जाने की घोषणा हो चुकी है। इस घोषणा के साथ ही अब अचानक ग्‍वालियर में नए वाहनों की खरीदी पर अचानक ब्रेक लग गया है। लोगों को उम्‍मीद है कि पिछले वर्ष की तरह इस वर्ष भी ग्‍वालियर व्‍यापार मेला में आरटीओ टैक्‍स में प्रदेश सरकार 50 प्रतिशत की छूट देगी। लिहाजा जो लोग नई गाडी लेने की तैयारी में थे उन्‍होने 15 दिसंबर तक अपने प्‍लान को होल्‍ड पर रख दिया है। वहीं व्‍यापारियों के संगठन चेंबर ऑफ कॉमर्स और कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) एवं मेला व्यवसाई संघ द्वारा अब मेले में सरकार से आरटीओ टैक्स में छूट के प्रयास में जुट गया है।

चेंबर को पूरा विश्‍वास मिलेगी छूट

चेंबर ऑफ कॉमर्स के मानसेवी सचिव डॉ प्रवीण अग्रवाल ने द ग्‍वालियर से बात करते हुए बताया कि ग्‍वालियर व्‍यापार मेला की तिथि जल्‍द घोषित करने और मेला में आरटीओ टैक्‍स में 50 प्रतिशत छूट दिए जाने के लिए केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर व राज्‍यसभा सदस्‍य ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया सहित प्रदेश के अन्‍य मंत्री व सांसद विवेक शेजवलकर को पत्र लिखा था। डॉ अग्रवाल ने कहा कि मेला की की तारीख घोषित हो चुकी है, और उन्‍हे पूरा विश्‍वास है कि सिंधिया जी व भाजपा सभी वरिष्‍ठ नेताओं के प्रयासों से इस बार भी लोगों को आरटीओं टैक्‍स में छूट मिलेगी।

सिंधिया और तोमर से मिलेगा कैट

 केट एवं मेला व्यवसाई संघ की संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में कैट के प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र जैन ने कहा कि मेला में 50 प्रतिशत आरटीओ छूट के लिए उनका एक प्रतिनिधिमंडल केन्द्रीय मंत्री  नरेन्द्र सिंह तोमर, राज्यसभा सदस्य  ज्योतिरादित्य सिंधिया एवं ग्वालियर सांसद  विवेक नारायण शेजवलकर से भेंट करेगा। जैन ने कहा कि ग्वालियर व्यापार मेले में कोविड-19 को लेकर जारी दिशा निर्देशों का पालन किया जाएगा। इसके लिए शासन द्वारा जो भी दिशानिर्देश तय किए जाएंगे उनका सभी व्यापारी कड़ाई से पालन करेंगे।

मेला व्यवसाई संघ के महामंत्री महेश मुदगल ने कहा कि मेले के 6500 दुकानदारों की भावनाओं को मध्यप्रदेश शासन ने स्वीकृति दी, इसके लिए हम प्रदेश के एमएसएमई मंत्री ओमप्रकाश सकलेचा के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करते हैं। इससे पूर्व 16 दिसम्बर को केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर एवं राज्यसभा सदस्य  ज्योतिरादित्य सिंधिया से मेले के आयोजन की चर्चा की थी। उन्होंने आश्वस्त किया था कि मेला अवश्य लगेगा और अब इसकी तिथि भी निर्धारित हो गई है।

युद्ध स्तर पर व्यवसाईयों से तैयारियां करने की अपील

 मेला व्यवसाई संघ के अध्यक्ष महेन्द्र भदकारिया, जनसंपर्क अधिकारी अनिल पुनियानी, कैट के जिला संयोजक दीपक पमनानी ने कहा कि ग्वालियर के और मेले में आने वाले सभी सैलानियों के लिए एक उदाहरण प्रस्तुत करें। मेला कोविड-19 के प्रॉटोकोल को देखते हुए लगे और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाये। इसके लिए व्यापारियों, मेला आयोजकों, जिला प्रशासन और पुलिस को सभी को पूरी शिद्दत के साथ काम करना होगा। पत्रकार वार्ता में कैट के प्रदेश महामंत्री मुकेश अग्रवाल, जिलाध्यक्ष रवि गुप्ता, जिला महामंत्री मुकेश जैन सहित मेला व्यवसाई संघ के महेन्द्र भदकारिया, महेश मुदगल, उमेश उप्पल, अनिल पुनियानी, संजय दीक्षित, सुरेश हिरयानी, कल्ली पंडित, महेन्द्र सेंगर, बब्बन सेंगर, अनुज सिंह, रूपेश कैन, पंडित विजय कब्जू, राजेश दुबे, शाहिद खान, चंदन बैस आदि उपस्थित थे।

चैंबर ने पत्र लिखा जैन हमारे साथ भोपाल गए

पत्रकारों द्वारा यह पूछे जाने पर कि क्या व्यापारियों के साथ चेंबर ऑफ कॉमर्स नहीं है। इस पर महेश मुद्गल ने कहा कि उन्होंने मेले के आयोजन को लेकर चेंबर पदाधिकारियों से चर्चा की थी चेंबर के पदाधिकारियों ने एक पत्र लिख दिया था जब यही बात कैट के अध्यक्ष भूपेंद्र जैन से की तो वे तत्काल इसके लिए प्रतिनिधिमंडल के साथ भोपाल जाने के लिए तैयार हो गए। भोपाल में मंत्री ओमप्रकाश सकलेचा से चर्चा के बाद उन्होंने मेला आयोजित करने की घोषणा कर दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *