फ्लेट रेट पर बिजली देने के लिए सर्वे शुरू आंकलित खपत खत्म होगी, आन्दोलन फिलहाल स्थगित

द ग्वालियर। ग्वालियर/ फ्लेट रेट पर किसानों को सिचाई के लिए पूरे ग्वालियर में दी जा रही है लेकिन केवल वार्ड 65 के अन्तर्गत गिरवाई, वीरपुर, अजयपुर के अलावा बेल्दारपुरा, हारकोटा सीर के किसानों के पम्प से फ्लेट रेट छीन लिया गया है। इसके विरोध में लगातार आन्दोलन किया जा रहा है। जानकारी के अनुसार अप्रैल 2016 से वार्ड में 65 के किसानों से फ्लेट रेट खत्म कर दी गई थी तथा मीटर्ड बिल दिया जाने लगा जिसमें तमाम सारे चार्जेज एवं आंकलित खपत लगाकर पांच से सात हजार का बिल एक किसान को दिया जाने लगा। जबकि फ्लेट रेट के अनुसार मात्र एक वर्ष में दो किस्तों में सात हजार रूपये का बिल किसान को भुगतान करना पडता था। अप्रैल 2018 से कांग्रेस सरकार में फ्लेट रेट घटकर पैतीस सौ रूपये ही रह गये थे।

माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी, मध्यप्रदेश किसान सभा एवं जनाधिकार पार्टी की ओर से संयुक्त रूप से किसानों की इस लूट के खिलाफ अभियान चलाया गया तथा 28 सितम्बर को इस सवाल पर सात घंटे तक विधुत महाप्रबंधक का कार्यालय घेर कर रखा गया था जिसके उपरांत महाप्रबंधक ने सात दिवस में समस्या के समाधान की घोषणा की थी। लेकिन उक्त समयाधवि में कोई समाधान ना होने की दशा में किसान पंचायत बुलाई गई एवं इसमें पुनः आन्दोलन की रूपरेखा तैयार की गई।

दिनांक 12 अक्टूबर 2020 को महात्मा फूले चैराहा गोलपहाडिया से किसानों में रोशनी घर तक पैदल मार्च किया महाप्रबंधक कार्यालय पर आधिकारीयों की टालमटोल नीति और कोई ठोस आश्वासन नही मिलने पर किसान रोशनी घर परिसर में ही पडाव डालकर जम गये वही खाना बनाया, रात्रि में रूके, सुबह पुनः महाप्रबंधक का पुतला दहन किया। रात्रि में माकपा राज्य सचिव जसविंदर सिंह, ने आकर किसानों के आन्दोलन के साथ एकजुटता व्यक्त की। इनके अलावा सीटू प्रदेश अध्यक्ष रामविलास गोस्वामी, ओबीसी महासभा के एडवोकेट धमेन्द्र कुशवाह, सामाजिक कार्यकर्ता एड विश्वजीत एवं एड रायसिंह ने भी सुबह आन्दोलन स्थल पर आकर समर्थन व्यक्त किया। किसानों के आन्दोलन को मुख्य रूप से माकपा नेता अखिलेश यादव, जनअधिकार पार्टी के सुग्रीव सिंह कुशवाह, किसान सभा के नेता रामबाबू जाटव, पूर्व पार्षद भगवान दास सैनी, अजयपुर के पूर्व सरपंच जण्डेल सिंह यादव, वार्ड 65 के पार्षद भूपेन्द्र कुशवाह, कल्लू लोधी, मोहन सिंह कुशवाह, श्यामलाल कुशवाह, छात्र नेत्री आकांक्षा धाकड, युवा नेता यूसूफ खान, श्याम यादव, नाहर सिंह, भंवर सिंह कुशवाह, बंटी कोठारी आदि ने सम्बोधित किया।

किसानों के पडाव डालने एवं जनसंख्या बढने के स्वाभाविक रूप सुबह से ही विधुत विभाग के उच्च अधिकारीयों ने सरगर्मी तेज कर दी उन्हे इस बात की आशंका हुई कि कही आन्दोलन विकराल ना हो जाए। तीन दौर की चर्चा के उपरांत आन्दोलनकारीयों एवं महाप्रबंधक विनोद कटारे एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारीयों के मध्य सहमति बनी जिसके तहत फ्लेट रेट के लिए संभावनाए तलाशने के लिए डीई राहूल साहू के नेतृत्व में विधुत अधिकारीयों की टीम गठित की गई जिसमें आन्दोलनकारीयों की ओर से भी चार प्रतिनिधी रहेगें और संयुक्त रूप से सर्वे 14 अक्टूबर से शुरू किया जायेगा।

इसके अलावा आंकलित खपत के बिल में सुधार किये जायेगें साथ ही गोलपहाडिया के एई शर्मा द्वारा आम जनता से किये जाने वाले दुव्र्यहार के खिलाफ भी कार्यवाही करेगें। माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के नेता अखिलेश यादव ने जनता के बीच आकर सहमति के बिन्दुओं को रखा एवं आव्हान किया कि पहले इन मांगो को पूरा कराया जायेगा लेकिन जब तक किसानों को फ्लेट रेट कनेक्शन नही मिल जाते एवं बिजल बिल माफी की कार्यवाही नही की जाती तब तक आन्दोलन जारी रहेगा। उपस्थित किसानों ने इस बात को ध्वनिमत से स्वीकार किया। आन्दोलनकारीयों द्वारा एलान किया गया कि यह आन्दोलन फिलहाल स्थगित किया गया है अगर सहमति के बिन्दुओं को पूरा नही किया गया तो पुनः आन्दोलन के लिए तैयारी की जायेगी। ं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *