ग्वालियर-डबरा में ट्रेन रोकने ट्रैक पर लेटे आंदोलनकारी, 11 ट्रेनें प्रभावित

डबरा में हंगामा होने पर कलेक्टर, एसपी भी पहुंचे, हाथ-पैर पकड़कर आंदोलनकारियों को उठाया

द ग्वालियर। कृषि कानूनों के विरोध में कृषि संगठनों के आव्हान पर गुरुवार को देशव्यापी रेल रोको आंदोलन के तहत कृषि संगठनों व उनके समर्थक राजनीतिक दलों नेतृत्व में ग्वालियर व डबरा में भी आंदोलन हुए। जिला पुलिस बल, आरपीएफ व जीआरपी ने रेलवे स्टेशन के अंदर तथा बाहर मोर्चा संभाल लिया था, लेकिन आंदोलनकारी स्‍टेशन के पास शहर से लगे रेलवे ट्रैक पर जा पहुंचे। आंदोलनकारियों को खदेड़ने के लिए पुलिस को काफी मशक्कत करना पड़ी। उन्हें हाथ-पैर पकड़कर उठाया और ट्रैक से बाहर कर दिया। डबरा में कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह व एसपी अमित सांघी पहुंचे और आंदोलनकारियों को बाहर का रास्ता दिखाया। आंदोलन से 2 यात्री तथा 9 मालगा़ड़ी प्रभावित हुईं।

पुलिस बल ने उठाकर किया बाहर

आंदोलनकारी ग्वालियर रेलवे स्टेशन के प्रवेश द्वार के बजाय एजी ऑफिस पुल के नीचे से ट्रैक पर जा पहुंचे़। आंदोलनकारी जब ट्रैक पर जाकर लेट गए तो बड़ी संख्या में पुलिस बल वहां पहुंच गया। महिला पुलिस ने आंदोलनकारी महिलाओं और पुरूष बल ने पुरुषों को समझाने का प्रयास किया। आंदोलनकारी जब हटने को तैयार नहीं हुए तो पुलिस ने जबरन उठाना शुरू कर दिया। उनके हाथ-पैर पकड़कर ट्रैक के बाहर कर दिया।  

डबरा में एसपी-कलेक्टर ने संभाला मोर्चा

आंदोलनकारियों की सबसे अधिक संख्या डबरा रेलवे स्टेशन पर रही। प्रशासन व पुलिस को भी पता था कि कृषि क्षेत्र होने के कारण डबरा में आंदोलन का असर ज्यादा रहेगा। इसलिए कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, एसपी अमित सांघी, आरपीएफ व जीआरपी के अधिकारी पुलिस बल के साथ वहां पहुंच गए। 12 बजकर 5 मिनट पर आंदोलनकारियों की भीड़ आई और ट्रैक पर कब्जा कर लिया। कलेक्टर, एसपी ने उन्हें समझाया लेकिन आंदोलनकारी ट्रैक पर लेट गए और हंगामा करने लगे। अधिकारियों ने चेतावनी दी और उन्हें ट्रैक से उठाकर बाहर कर दिया। इस आंदोलन से यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। देर शाम तक पुलिस बल वहां तैनात रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *