Home धर्म-ज्योतिष मांढऱे वाली माता का मंदिर: सपने में दिया मंदिर बनाने का आदेश, सिंधिया खानदान को मिला सौभाग्य

मांढऱे वाली माता का मंदिर: सपने में दिया मंदिर बनाने का आदेश, सिंधिया खानदान को मिला सौभाग्य

3 second read
0
0
31

मंदिर में विराजमान अष्टभुजा वाली महिषासुर मर्दिनी मां महाकाली की प्रतिमा अद्भुत और दिव्य है। माता की मूर्ति के दर्शन सीधे जयविलास पैलेस से होते थे।

द ग्वालियर। नवरात्रि ग्वालियर राज घराने के लिए कुछ खास है। शहर में ऐसे कई देवी मंदिर हैं, जहां भक्तों की भारी भीड़ उमड़ती है। लेकिन, इसमें भी एक खास देवी मंदिर है मांढऱे वाली माता। कंपू क्षेत्र के कैंसर पहाड़ी पर बना यह भव्य मंदिर स्थापत्य की दृष्टि से तो खास है ही, इस मंदिर में विराजमान अष्टभुजा वाली महिषासुर मर्दिनी मां महाकाली की प्रतिमा अद्भुत और दिव्य है।

135 साल पहले जयाजी राव सिंधिया ने कराई थी स्थापना

सिंधिया परिवार से जुड़े लोग बताते हैं कि इस मंदिर का निर्माण महाराजा जयाजीराव सिंधिया की फौज के कर्नल आनंदराव मांढरे के कहने पर तत्कालीन सिंधिया शासक ने कराया था। बताते है कि कर्नल मांढऱे को सपना आया, जिसमें मां काली ने उसे कैंसर पहाड़ी पर मां की मूर्ति होने का आभास कराया। बताया जाता है कि जब उस स्थान पर खोज की गई तो मां की मूर्ति मिली। उसी स्थान पर मां काली का भव्य मंदिर का निर्माण सिंधिया शासक द्वारा करवाया गया। आज भी इस मंदिर की देखरेख और पूजा-पाठ का दायित्व मांढरे परिवार निभा रहा है।

अपने महल से मां के दर्शन करते थे सिंधिया

शासक मांढऱे की माता सिंधिया राजपरिवार की कुल देवी है और इसी वजह से इस मंदिर का महत्व अधिक है। मंदिर का निर्माण इस प्रकार किया गया है कि माता की मूर्ति के दर्शन सीधे जयविलास पैलेस से होते थे। मंदिर व जयविलास पैलेस का मुख आमने-सामने है। कहा जाता है कि सिंधिया शासक पैलेस से एक बड़ी दूरबीन के माध्यम से माता के प्रतिदिन दर्शन किया करते थे। 13 बीघा जमीन पर बना है मंदिर मांढऱे वाली माता मंदिर में करीब 13 बीघा में फैला हुआ है। यह भूमि सिंधिया राजवंश ने दान में दी थी। इसकी देखरेख व जरूरत को आज भी सिंधिया परिवार करता है। यहां दूर-दराज से भी लोग दर्शन करने आते हैं। मान्यता है कि यहां मांगी गई हर मुराद पूरी होती है। हर कष्ट हर लेती है माता। मांढऱे वाली माता के इर्द-गिर्द अनेक अस्पताल हैं, जहां आज भी उपचार के लिए आने वाले मरीजों के परिजन यहां मन्नत मांगते हैं। कोई घंटियां चढ़ाता है, तो कोई धागा बांधकर मन्नत मांगता है और जब मन्नत पूरी होती है तो मत्था टेकने भी आता है।

दशहरे पर होता है शमी पूजन

मंदिर के व्यवस्थापक मांढरे परिवार के अनुसार इस मंदिर पर लगे शमी के वृक्ष का प्राचीन काल से सिंधिया राजवंश दशहरे के दिन पूजन किया करता है। आज भी पारंपरिक परिधान धारण कर सिंधिया राजवंश के प्रतिनिधि ज्योतिरादित्य सिंधिया अपने बेटे तथा व सरदारों के साथ यहां दशहरे पर मत्था टेकने और शमी का पूजन करने आते हैं।

Load More Related Articles
  • vbn

    Event …
  • lmn

    हल्ला-बोल …
  • klm

    आपकी-आवाज …
Load More By gwalior
Load More In धर्म-ज्योतिष

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

vbn

Event …