दिग्विजय ने किया दुष्कर्म पीड़िता की निजता का उल्लंघन, भाजपा ने आयोग से की शिकायत

द ग्वालियर, भोपाल। भारतीय जनता पार्टी ने प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी से पूर्व मुख्यमंत्री एवं सांसद दिग्विजय सिंह द्वारा दुष्कर्म पीड़िता की निजता के उल्लंघन किये जाने संबंधी शिकायत की है। इसके लिए पार्टी का एक प्रतिनिधिमंडल शुक्रवार को मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय पहुंचा और लिखित शिकायत प्रस्तुत की।

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी को की गई शिकायत में कहा गया है कि कांग्रेस नेता दिग्विजयसिंह ने अपने ट्विटर एकाउंट पर गुरुवार को की गई पोस्ट के माध्यम से दुष्कर्म पीड़िता की तस्वीर को सार्वजनिक किया है। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने अपनी पोस्ट के साथ दुष्कर्म पीड़िता का एक अस्पताल का फोटो एवं एक साधारण फोटो भी शेयर किया है। पार्टी द्वारा निर्वाचन आयोग को की गई शिकायत में कहा गया है कि उपचुनाव की घोषणा हो चुकी है और आदर्श आचार संहिता लागू हो गयी है। ऐसे में दिग्विजयसिंह ने जानबूझकर प्रदेश में आरक्षित वर्ग की जनता के मन में वैमनस्य फैलाने के उद्देश्य से उक्त पोस्ट डाली है, ताकि चुनावों में जनता को भ्रमित किया जा सके। शिकायत में कहा गया है कि दिग्विजय सिंह की उक्त पोस्ट विधि विरूद्ध है, क्योंकि जिस घटना का उल्लेख किया गया है, उक्त घटना की विवेचना जारी है।

कानून के अनुसार यदि दुष्कर्म से संबंधित किन्हीं प्रकरणों में विवेचना जारी है तो पीड़िता की निजता को प्रदर्शित नहीं किया जा सकता है। परंतु दिग्विजयसिंह ने जानबूझकर अपने ट्विटर हैंडल पर उक्त जानकारी डालकर अपराध किया है। शिकायत में कहा गया है कि दिग्विजय सिंह ने इसी के साथ उक्त फोटो में कांट छांटकर एक अन्य लडकी का फोटो लगा दिया है और उसे दुष्कर्म पीड़ित लड़की बताया है, जबकि उक्त बालिका का 2 वर्ष पूर्व ही बीमारी के चलते चंडीगढ़ में निधन हो चुका है। पार्टी द्वारा मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से आग्रह किया गया है कि दिग्विजय सिंह ने उक्त कृत्य जानबूझकर उपचुनाव में जनता को भ्रमित करने, माहौल बिगाड़ने के उद्देश्य से किया है, इसलिए दिग्विजयसिंह के विरूद्ध चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन के अपराध में दंडात्मक कार्रवाई की जाए तथा उन्हें चुनाव प्रचार से भी रोका जाए। प्रतिनिधिमंडल में डॉ. हितेश वाजपेयी, संतोष शर्मा, प्रमोद सक्सेना, दीपक खरे शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!