ग्वालियर में फीवर क्लीनिक देखने भोपाल से आए डिप्टी डायरेक्टर हेल्थ

ग्वालियर। जिला अस्पताल मुरार (District Hospital Gwalior) में खोले गए फीवर क्लीनिक (Fever Clinic) की व्यवस्थाओं को देखने के लिए आज भोपाल से डिप्टी डायरेक्टर हेल्थ (Deputy Director Health) डॉ. वीरेंद्र कुमार ने निरीक्षण किया। फीवर क्लीनिक किस तरह संचालित हो इसके लिए डॉ. वीरेंद्र कुमार ने दिशा-निर्देश भी दिए। निरीक्षण के दौरान सिविल सर्जन डॉ. डीके शर्मा, आरएमओ
डॉ. आलोक पुरोहित एवं डीएचओ मनोज कौरव और नोडल अधिकारी डॉ. प्रतीक दुबे उपस्थित थे।

सरकार का फीवर क्लीनिक पर फोकस

कोरोना वायरस के बीच बुखार व सर्दी जुकाम से पीड़ित मरीजों का इलाज अब फीवर क्लीनिक में किया जाएगा। कोरोना और मौसम में हो रहे बदलाव के कारण लोगों को जो परेशानी हो रही है वह लक्षण समान है। ऐसे में अब बुखार और सर्दी जुकाम से ग्रसित लोगों का अलग से इलाज हो इसके लिए मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार का फोकस अब फीवर क्लीनिक पर है।
दूसरे मरीजों से अलग रहेंगे सर्दी-जुकाम के मरीज

कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए जरूरी है कि लोग भीड़-भाड़ वाले स्थान से दूरी बनाएं रखें। मौसम में बदलाव की वजह से बड़ी संख्या में लोग बुखार व सर्दी-जुकाम से पीड़ित हैं। ऐसे में मरीजों की भरी भीड़ अस्पताल में जुट रही है। अस्पताल पहुंचने वाले मरीजों में 70 फीसदी से अधिक सर्दी व जुकाम से पीड़ित होते हैं। ऐसे मरीजों को अन्य मरीजों से दूर रखने के लिए फीवर क्लीनिक बनाया गया है।

फीवर क्लीनिक एक नजर में

  • बुखार व सर्दी जुकाम से पीड़ित मरीजों का इलाज अब फीवर क्लीनिक में किया जाएगा।
  • ओपीडी से मरीजों का भार कम करने व अन्य मरीजों में फ्लू का संक्रमण रोकने के लिए फीवर क्लीनिक बनाया गया है।
  • क्लीनिक में बुखार, सर्दी व जुकाम से पीड़ित मरीजों को दवाएं भी उपलब्ध कराई जाएंगी।
  • सर्दी-खांसी, जुकाम, बुखार और कोविड-19 के लक्षण वाले सभी मरीजों की स्क्रीनिंग, जांच और उपचार अब फीवर क्लीनिक में ही होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!